आयुर्वेद के अनुसार अपने शरीर को ठंडा रखने के 10 अद्भुत तरीके

याद मत करो

घर स्वास्थ्य कल्याण कल्याण ओइ-सराविया बाय Sravia Sivaram 20 अप्रैल, 2017 को

आयुर्वेद के सिद्धांतों के अनुसार, हमारी दिनचर्या और आहार मौसम के अनुसार होना चाहिए। इस प्रकार, हमारी जीवन शैली और खाने की आदतों को एक मोड़ देते हुए, हम प्रकृति के साथ सद्भाव में रह सकते हैं।

यह गर्मियों का समय है और आप पहले से ही गर्मी के फोड़े, शरीर की गर्मी और इस मौसम से जुड़े ऐसे कई मुद्दों से भरे हो सकते हैं। हमें और कहने की आवश्यकता है?



आयुर्वेद के अनुसार शरीर की गर्मी को कैसे कम करें

आयुर्वेद के अनुसार, 'पित्त' या शरीर की गर्मी हमारे चयापचय को सामान्य रूप से काम करने की अनुमति देती है। जब शरीर की ऊष्मा बहुत अधिक हो जाती है, तो इसे 'पिसा दोष' कहा जाता है। शरीर की गर्मी में यह अचानक वृद्धि अवांछनीय है और शरीर के चयापचय को बाधित करती है। इससे शरीर में रासायनिक असंतुलन भी होता है।

यह मुँहासे, दिल की जलन, त्वचा पर चकत्ते और दस्त जैसे लक्षणों के साथ भी आता है।

इसलिए, आयुर्वेद की मदद से शरीर की गर्मी को कम करने की सलाह दी जाती है। इस लेख में, हम आपको आयुर्वेद के अनुसार शरीर की गर्मी को कम करने का तरीका बताएंगे।

तो, शरीर को ठंडा करने के लिए आयुर्वेदिक सुझावों के बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ना जारी रखें।

सरणी

1. गर्मी पैदा करने वाले मसालों से परहेज:

आपको गर्मी के दौरान गर्मी पैदा करने वाले मसालों जैसे कि केयेन, लहसुन, मिर्च, सौंफ और काली मिर्च से बचना चाहिए। आप इसके बदले धनिया, इलायची और सीताफल जैसी ठंडी जड़ी बूटियों का सेवन कर सकते हैं।

सरणी

2. गर्म, मसालेदार और खट्टे खाद्य पदार्थों से बचें:

गर्मियों में इनसे बचें, क्योंकि ये आपके शरीर में गर्मी बढ़ाते हैं और आपको गर्माहट का एहसास कराते हैं। आप अपने आहार में सफेद या लाल चावल, गेहूं, नारियल और घी जैसे मीठे और ठंडे पदार्थ शामिल कर सकते हैं।

सरणी

3. बर्फ वाली ठंडी ड्रिंक्स पीने से बचें:

कार्बोनेटेड पेय, सुगंधित रस, दूध और दही-आधारित फलों की स्मूदी से बचें, क्योंकि वे पाचन की प्रक्रिया को बाधित करते हैं। यह शरीर में विषाक्तता भी पैदा करता है जो कम प्रतिरक्षा के लिए अग्रणी है। यह शरीर को ठंडा करने के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेदिक सुझावों में से एक है।

सरणी

4. खट्टे फलों से बचें:

खट्टे फलों से बचें और इसके बजाय अंगूर, अनार, मीठे आम, सेब, नाशपाती, काली किशमिश आदि फलों का सेवन करें, साथ ही यह भी याद रखें कि किसी अन्य फल को खाने के 30 मिनट के भीतर कुछ खास फल न खाएं।

सरणी

5. नारियल पानी के लिए जाओ:

यह गर्मी की गर्मी को हरा देने के लिए बहुत अच्छा है और गर्मियों में उस पर आनंद लेने का सबसे अच्छा समय नहीं है? इससे आपको पता चल जाएगा कि शरीर को अंदर से ठंडा कैसे रखा जा सकता है।

सरणी

6. किण्वित खाद्य पदार्थों से बचें:

दही, अचार, ब्रेड, किण्वित पनीर और सोया उत्पादों जैसे खाद्य पदार्थों से बचा जाना चाहिए, क्योंकि वे शरीर में गर्मी बढ़ा सकते हैं और अपच और नाराज़गी भी पैदा कर सकते हैं।

सरणी

7. प्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश और अत्यधिक गतिविधि से बचें:

यह दिन के सबसे गर्म हिस्से के दौरान बचा जाना चाहिए, क्योंकि यह आपको बाहर निकाल सकता है। यदि आप बाइक चलाना और दौड़ना चाहते हैं, तो इसे सुबह या शाम के समय करें। शरीर की गर्मी को कम करने के लिए यह सबसे अच्छा आयुर्वेदिक टिप है।

सरणी

8. पीने के कमरे के तापमान पानी:

पानी पीएं जो हाइड्रेटेड रहने के लिए सामान्य तापमान का है। आप इसमें ताजा पुदीना का एक चम्मच या कार्बनिक गुलाब जल का एक चम्मच भी जोड़ सकते हैं।

सरणी

9. ढीले-ढाले सूती कपड़े पहनें:

गर्मियों के दौरान पहनने के लिए सबसे अच्छे रंग वे रंग हैं जो सूर्य की रोशनी को दर्शाते हैं, जैसे सफेद, ग्रे, नीला और हरा। अंधेरे रंगों से बचें, क्योंकि वे गर्मी को अवशोषित और बनाए रखते हैं। इससे आपको पता चल जाएगा कि गर्मियों में प्राकृतिक रूप से शरीर की गर्मी को कैसे कम किया जा सकता है।

सरणी

10. अपने शरीर की मालिश करें:

आप नहाने से 20 मिनट पहले अपरिष्कृत नारियल तेल से त्वचा की मालिश कर सकते हैं। यह उपाय ठंडा करने के साथ-साथ आपके शरीर को फिर से जीवंत करने में मदद करेगा। इससे आपको पता चल जाएगा कि आयुर्वेद के अनुसार शरीर की गर्मी को कैसे कम किया जा सकता है।

फिल्मफेयर अवार्ड 2014: प्राची देसाई इन पीच!

पढ़ें: फिल्मफेयर अवार्ड 2014: पीच में प्राची देसाई!

लोकप्रिय पोस्ट