आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियाँ जो मायोपिया को ठीक करती हैं

याद मत करो

घर स्वास्थ्य विकार ठीक करते हैं विकार कूर ओ-तनुश्री कुलकर्णी द्वारा Tanushree Kulkarni 1 सितंबर 2016 को

निकट दृष्टिदोष के रूप में ज्ञात स्थिति के लिए मायोपिया एक वैज्ञानिक नाम है। निकट दृष्टि में, व्यक्ति स्पष्ट रूप से पास की वस्तुओं को देख सकता है लेकिन दूर की वस्तुओं को देखने में कठिनाई होती है। कई उपचार विधियां हैं जो इस स्थिति का इलाज कर सकती हैं, उनमें से एक है जो मायोपिया को ठीक करने के लिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है।

आम तौर पर, यह स्थिति आंखों में अपवर्तक त्रुटि के कारण होती है। निकटता या मायोपिया के मामले में, रेटिना की सतह के स्थान पर रेटिना के सामने छवि का निर्माण होता है।

यह भी पढ़ें: आंखों की रोशनी में सुधार के लिए 7 घरेलू उपचार



आंख से बहुत करीब की सीमा पर स्थित किसी भी वस्तु पर काम करना मायोपिया के सबसे प्रमुख कारणों में से एक है।

अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक दिवस कब मनाया जाता है

मंद या कम रोशनी में काम करना या पढ़ना विशेष रूप से निकट दृष्टि या मायोपिया का कारण बन सकता है। अध्ययनों से यह भी पता चला है कि सुधारात्मक लेंस के दीर्घकालिक उपयोग से भी मायोपिया हो सकता है।

डायबिटीज जैसी बीमारियों से पीड़ित लोगों को भी मायोपिया होने का अधिक खतरा होता है।

आयुर्वेद में, हालत को द्रोष्टि दोष के रूप में जाना जाता है। दृष्टि में सुधार करने और मायोपिया और हाइपरमेट्रोपिया जैसी समस्याओं को ठीक करने के लिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञों द्वारा कई जड़ी-बूटियाँ और दवाएँ निर्धारित हैं।

मायोपिया की समस्या को ठीक करने के लिए 5 मिनट सूर्योदय देखना भी एक बहुत अच्छा उपाय है। यह एक अच्छी दृष्टि बनाने और आंखों के स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए जाना जाता है।

यह भी पढ़ें: कैसे एक मछली खाने से आपकी दृष्टि में सुधार होता है?

जड़ी-बूटियों और अन्य दवाओं के अलावा, कंप्यूटर पर जागने और टीवी पढ़ने या देखने के दौरान नियमित रूप से दृष्टि टूट जाती है। सुनिश्चित करें कि आप अपनी दृष्टि को मजबूत रखने के लिए अच्छी तरह से रोशनी वाले स्थानों पर काम करते हैं।

अब, हम कुछ जड़ी-बूटियों और उपचारों को देखते हैं, जो कि चिकित्सा की इस प्राचीन प्रणाली, आयुर्वेद में बताई गई हैं।

जड़ी-बूटियाँ जो मायोपिया को ठीक करने में मदद करती हैं

अमला

आंवला को भारतीय आंवले के रूप में भी जाना जाता है और यह एक पावरहाउस जड़ी बूटी है जिसका उपयोग कई बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। इसके जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण इसे कई बीमारियों के इलाज के लिए एक-स्टॉप समाधान बनाते हैं। यह विटामिन सी के साथ पैक किया जाता है, जो आंखों और समग्र स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। ताजे आंवले के रस के नियमित सेवन से दृष्टि में सुधार और आंखों से संबंधित विकारों को दूर रखने में मदद मिलती है।

जड़ी-बूटियाँ जो मायोपिया को ठीक करने में मदद करती हैं

त्रिफला

त्रिफला अभी तक एक और आयुर्वेदिक उपाय है जो मायोपिया को ठीक करने में बहुत फायदेमंद है। तीन या अधिक जड़ी बूटियों का यह मिश्रण आंखों की मांसपेशियों को मजबूत करने और आंखों की दृष्टि में सुधार करने में मदद करता है। त्रिफला चूर्ण के नियमित सेवन से मायोपिया को ठीक करने में मदद मिलेगी।

हरे चने का पाउडर रोजाना चेहरे पर लगाएं

आप आयुर्वेदिक स्टोर्स में त्रिफला चूर्ण आसानी से पा सकते हैं। त्रिफला के पानी से अपनी आँखों को धोने से दृष्टि में सुधार और आँखों को स्वस्थ रखने में भी मदद मिलती है।

जड़ी-बूटियाँ जो मायोपिया को ठीक करने में मदद करती हैं

कासनी

चिकोरी, जिसे कासनी भी कहा जाता है, लघु-दृष्टि से पीड़ित लोगों के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है। यह विटामिन ए का एक बड़ा स्रोत है जो आंखों की स्थिति में सुधार करने में मदद करता है। गाजर और अजमोद के साथ कासनी मिलाएं और हर दिन इसका रस पीएं। इस रस के नियमित सेवन से आंखों से संबंधित समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलेगी।

जड़ी-बूटियाँ जो मायोपिया को ठीक करने में मदद करती हैं

नद्यपान

नद्यपान एक शक्तिशाली जड़ी बूटी है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। यह आयुर्वेद द्वारा मायोपिया के उपचार में निर्धारित है। इसके विरोधी भड़काऊ गुण सूजन को ठीक करने में मदद करते हैं। नद्यपान पाउडर को शहद के साथ मिलाएं और प्रतिदिन इस मिश्रण का सेवन खाली पेट करें। इस मिश्रण के नियमित सेवन से दृष्टि में सुधार और मायोपिया को ठीक करने में मदद मिलेगी।

जड़ी-बूटियाँ जो मायोपिया को ठीक करने में मदद करती हैं

अंगूर के बीज

मायोपिया से पीड़ित लोगों के लिए अंगूर का बीज भी एक अच्छा उपाय है। यह एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध है जो बीमारियों को खाड़ी में रखने में मदद करता है। यह आंखों की मांसपेशियों को मजबूत करने में भी मदद करता है। आंखों की अच्छी सेहत बनाए रखने के लिए इसे पानी में मिलाकर प्रतिदिन सेवन करें। इसका सेवन शहद के साथ भी किया जा सकता है।

लोकप्रिय पोस्ट