यहां हिंदी और अंग्रेजी में दुर्गा चालीसा के बोल हैं

याद मत करो

घर योग अध्यात्म विश्वास रहस्यवाद विश्वास रहस्यवाद ओइ-प्रेरणा अदिति द्वारा Prerna Aditi 19 मार्च, 2021 को

देवी दुर्गा को शक्ति, शक्ति और पराक्रम की देवी कहा जाता है। वह भगवान शिव की पत्नी देवी पार्वती का योद्धा रूप है। उसे सभी ब्रह्मांडीय ऊर्जा और शक्ति के स्रोत के लिए माना जाता है। उसका बहुआयामी आचरण है। देवी दुर्गा हमेशा अपने भक्तों को शक्ति, बुद्धि, ऊर्जा और ज्ञान के साथ आशीर्वाद देती हैं। देवी दुर्गा के भक्त मंत्र, श्लोकों और चालीसा का पाठ करके उनकी पूजा करते हैं। जो लोग दुर्गा चालीसा नहीं जानते उनके लिए देवी को समर्पित एक भजन है।

दुर्गा चालीसा के बोल हिंदी और अंग्रेजी में

आज हम आपके लिए दुर्गा चालीसा के बोल लेकर आए हैं, जो आपको सीखने में मदद करते हैं। अधिक पढ़ने के लिए लेख को नीचे स्क्रॉल करें।



अंधेरे भीतरी जांघों और जघन क्षेत्र को हल्का कैसे करें

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।

नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥

नमो नमो दुर्गे सुख करणी |

नमो नमो अम्बे दुःख हरानी ||

निरंकार है ज्योति तुम्हारी।

तिहूँ लोक फैली उजियारी॥

Nirakar Hai Jyoti Tumhari |

Tihoun Lok Phaili Uujiyaari ||

शशि ललाट मुख महाविशाला ।

नेत्र लाल भृकुटि विकराला ॥

शशि ललाट मुख महा विशाला |

Netra Lal Bhrikoutee Vikaraala ||

रूप मातु को अधिक सुहावे ।

दरश करत जन अति सुख पावे ॥ ४ ॥

Roop Maatu Ko Adhik Suhaave |

Darshan Karata Jana Ati Sukh Paave ||

तुम संसार शक्ति लै कीना ।

पालन हेतु अन्न धन दीना ॥

Tum Sansar Shakti Laya Keena |

Palana Hetu Anna Dhan Deena |

अन्नपूर्णा हुई जग पाला ।

तुम ही आदि सुन्दरी बाला ॥

अन्नपूर्णा हुई तू जग पाल |

तुमि अदि सुंदरी बाला ||

प्रलयकाल सब नाशन हारी ।

तुम गौरी शिवशंकर प्यारी ॥

प्रलयकाल सब नशाना हरि |

Tum Gouri Shiv Shankar Pyari ||

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें ।

ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें ॥ ८ ॥

Shiv Yogi Tumhre Gun Gaavein |

Brahma Vishnu Tumhein Nit Dhyavein ||

रूप सरस्वती को तुम धारा ।

दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा ॥

Roop Saraswati Ka Tum Dhara |

Dey Subuddhi Rishi Munina Ubara ||

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा ।

पोल खुली हुई थी।

धरयो रूप नरसिम्हा को अंबा |

Pragat Bhayi Phaad Ke Khamba ||

प्रहलाद को बचाया और बचाया।

हिरण्याक्ष ने स्वर्ग भेजा।

रक्षा कारी प्रहलाद बचायो |

Hiranyaykush Ko Swarga Pathayo ||

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं ।

श्री नारायण अंग समाहीं ॥ १२ ॥

bal gopal puja vidhi in hindi

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं |

श्री नारायण अंग समाहिं ||

क्षीरसिंधु में करत विलास।

दयासिन्धु दीजै मन आसा ॥

Ksheer Sindhu Mein Karat Vilaasa |

दया सिंधु दीजे मन आस ||

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी ।

महिमा अमित न जात बखानी ॥

Hingalaja Mein Tumhi Bhavani |

महिमा अमित न जात बखानी ||

मातंगी अरु धूमावती माता।

भुवनेश्वरी बगला सुख दाता ॥

मातंगी अरु धूमावती माता |

भुवनेश्वरी बगला सुखदाता ||

श्री भैरव तारा जग तारिणी ।

छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी ॥ १६ ॥

श्री भैरव तारा जग तरनी |

छिनना भला भव दुख निवारिणी ||

केहरि वाहन सोह भवानी ।

लांगुर वीर चलत अगवानी ॥

Kehari Vahan Soha Bhavani |

Laangur Veer Chalata Agavani ||

कर में खप्पर खड्ग विराजै ।

जाको देख काल डर भाजै ॥

Kar Mein Khappar Khadaga Virajay |

Jako Dekh Kaal Dar Bhajey ||

सोहै अस्त्र और त्रिशूला ।

दुश्मन उठ रहा है और गिर रहा है।

Sohe Astra Aur Trishula |

जस उधत शत्रु हिय शूल ||

नगरकोट में तुम्हीं विराजत ।

तिहुँलोक में डंका बाजत ॥ २० ॥

Nagarkot Mein Toumhi Virajat |

Tihoun Lok Mein Danka Baajat ||

शुम्भ निशुम्भ दानव तुम मारे ।

रक्तबीज शंखन संहारे ॥

Nishumbh Daanuv Tum Maare |

Rakta Beej Shankhana Sanghaare |

महिषासुर नृप अति अभिमानी ।

जेहि अघ भार मही अकुलानी ॥

Mahishasur Nrip Ati Abhimaani |

जेहि अघ भरि महि अकुलाई ||

रूप कराल कालिका धारा ।

सेन सहित तुम तिहि संहारा ॥

Roop Karaal Kali ka Dhara |

सेन सहिता तुम तिहिं समारा ||

परी गाढ़ सन्तन पर जब जब ।

भई सहाय मातु तुम तब तब ॥ २४ ॥

भारतीय ध्वज में भगवा रंग का अर्थ

Pari Gaarh Santana Par Jab Jab |

Bhayi Sahay Matou Tum Tab Tab ||

अमरपुरी अरु बसव लोका।

तब महिमा सब रहें अशोका ॥

अमरपुरी अरुबा सब लोका |

Tab Mahima Sab Kahey Ashoka ||

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी ।

तुम्हें सदा पूजें नरनारी ॥

Jwala Mein Hai Jyoti Tumhari |

Tumhein Sada Poojey Nar Nari ||

प्रेम भक्ति से जो यश गावें ।

दुःख गरीबी के पास नहीं आता है।

Prem Bhakti Se Jo Yash Gave |

दुख दरिद्र निकत नहिं आवे ||

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई ।

जन्ममरण ताकौ छुटि जाई ॥ २८ ॥

Dhyaave Tumhein Jo Nar Man Layi |

जनम मरन तको छटे जराई ||

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी ।

योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी ॥

Yogi Sur Muni Kahat Pukaari |

योग न होए बीना शक्ति तुमहारी ||

शंकर आचारज तप कीनो ।

काम अरु क्रोध जीति सब लीनो ॥

Shankara Acharaj Tap Ati Keenho |

Kaam Krodh Jeet Sab Leenho ||

निशिदिन ध्यान धरो शंकर को ।

काहु काल नहिं सुमिरो तुमको ॥

Nishidin Dhyan Dharo Shankar Ko |

कहहु काल नहिं सोम्मरो तुमको ||

शक्ति रूप का मरम न पायो ।

शक्ति गई तब मन पछितायो ॥ ३२ ॥

Shakti Roop Ko Maram Na Payo |

शक्ति गायि तब मन पछितायो ||

शरणागत हुई कीर्ति बखानी ।

कॉमेडी नाइट्स विद कपिल में डेज़ी शाह

जय जय जय जगदम्ब भवानी ॥

Sharnagat Huyi Kirti Bakhaani |

Jai Jai Jai Jagadambe Bhavani ||

भाई प्रसन्ना आदि जगदंबा।

दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा ॥

Bhayi Prasanna Aadi Jagadamba |

दया शक्ति नहिं कीन विलम्ब ||

मोको मातु कष्ट अति घेरो ।

तुम्हारे बिना मेरा दुःख कौन है?

मूकन मातु कशटा अति घेरो |

Tum Bin Kaun Harey Dukh Mero ||

आशा तृष्णा निपट सतावें ।

मोह मदादिक सब बिनशावें ॥ ३६ ॥

Asha Trishna Nipat Satavein |

Ripu Moorakh Mohe Ati Darpaave ||

शत्रु नाश कीजै महारानी ।

सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी ॥

Shatru Nash Kijey Maharani |

Soumiron Ikchit Tumhein Bhavani ||

करो कृपा हे मातु दयाला ।

रिद्धिसिधि दइ करहु निहला।

करो कृपा हे मातु दयाला |

रिद्धि सिद्धि दे करहु निहाला ||

जब लगि जिऊँ दया फल पाऊँ ।

तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊँ ॥

Jab Lagi Jiyoun Daya Phal Paoun |

Tumhro Yash Mein Sada Sounaoun ||

श्री दुर्गा चालीसा जो कोई गावै ।

सब सुख भोग परमपद पावै ॥ ४० ॥

दुर्गा चालीसा जो नर गावे |

सब सुख भोग परमपद पावे ||

देवीदास शरण निज जानी ।

कहु कृपा जगदम्ब भवानी ॥

देवीदास शरण निज जानी |

कराहंउ कृपा जगदम्बे भवानी ||

लोकप्रिय पोस्ट