सुदर्शन क्रिया: आपके समग्र कल्याण के लिए एक योग तकनीक

याद मत करो

घर स्वास्थ्य कल्याण कल्याण लखका-वीनू सहानी द्वारा वीनू सहानी 16 अगस्त 2018 को Yoga: How to do Sudarshan Kriya | ऐसे करें सुदर्शन क्रिया, जानें अद्भुत फायदे । Boldsky

सुदर्शन क्रिया एक शक्तिशाली लयबद्ध श्वसन तकनीक है। यह एक सहज प्रक्रिया है जो आपको ध्यान की गहरी स्थिति में खींचकर नकारात्मकता को दूर करने और तनाव को दूर करने में मदद करती है। 'सु' का अर्थ है उचित, और 'दर्शन' का अर्थ है दृष्टि। योग विज्ञान में 'क्रिया' का अर्थ शरीर को शुद्ध करना है। तीनों ने मिलकर 'सुदर्शन क्रिया' का अर्थ है 'कार्रवाई को शुद्ध करके उचित दृष्टि।' यह एक अद्वितीय श्वास अभ्यास है जिसमें चक्रीय श्वास पैटर्न शामिल है। श्वास धीमी और शांत करने से लेकर तीव्र और उत्तेजक होती है। आप इस क्रिया में अपनी सांस को नियंत्रित करें।

तरबूज गर्भवती महिला के लिए अच्छा है

यह मस्तिष्क, हार्मोन, प्रतिरक्षा और हृदय प्रणाली के कामकाज को बढ़ाता है। इतना ही नहीं, क्रिया तनाव, अवसाद और चिंता को भी कम करती है। इसके अलावा, यह शारीरिक और मानसिक कल्याण दोनों को बढ़ावा देता है। इस तकनीक का आपके मन-शरीर कनेक्शन पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है।



benefits of sudarshan kriya on skin

जब पर्यावरण प्रदूषण, खाने की गलत आदतें और एक गतिहीन जीवन शैली जैसे कारक हमें परेशान करते हैं, तो सुदर्शन क्रिया नागरिकों के लिए एक बेहतर जीवन जीने का एक तरीका है।

तकनीक

सुदर्शन क्रिया का अभ्यास दिन के किसी भी समय किया जा सकता है। भोजन करने के तुरंत बाद इसे करने से बचना चाहिए। पूरी प्रक्रिया में लगभग 45 मिनट लगते हैं। चार तकनीक हैं - उज्जायी, भस्त्रिका, ओम जप और क्रिया।

1. उज्जयी, दूसरे शब्दों में, विजयी सांस है। यह धीमी सांस लेने की प्रक्रिया है। यहां आपको आराम से साँस लेना और छोड़ना है। साँस लेना और छोड़ने की अवधि को बराबर रखना चाहिए। उज्जायी में व्यक्ति को सचेत रूप से सांस लेने की जरूरत होती है। यदि आप अपनी सांस को महसूस करना चाहते हैं तो आप अपने गले को छू सकते हैं।

इस तकनीक में, प्रति मिनट लगभग 2-4 साँस ली जानी चाहिए। उज्जायी आपको शांत करने में मदद करता है और आपको सतर्क भी रखता है। धीमी सांस आपको सिखाती है कि आप अपनी सांस पर कैसे नियंत्रण पा सकते हैं। यह आपको इसे सटीक गणना तक विस्तारित करने की भी अनुमति देता है।

2. भस्त्रिका, दूसरे शब्दों में, धौंकनी है। भस्त्रिका में शांतता के साथ शरीर को उत्तेजित करने का एक अनूठा प्रभाव है। मुख्य रूप से साँस लेने की शैली छोटी और त्वरित है। भस्त्रिका में तेजी से और बलपूर्वक एक में श्वास और साँस छोड़ते हैं। प्रति मिनट कम से कम 30 साँस लेनी चाहिए। साँस छोड़ते की अवधि साँस से दो बार होनी चाहिए।

3. ओम जप में, Om ओम ’की शुद्ध ध्वनि, जो सभी जीवन का आधार है, का जप किया जाता है। 'ओम' शब्द तीन भागों में विभाजित हो जाता है - ए-यू-एम जब इसे जोर से सुनाया जाता है। ओम का जाप आपको ब्रह्मांड की उत्पत्ति से जुड़ने में मदद करता है। यह आपको जीवन का उद्देश्य प्राप्त करने में भी मदद करता है।

ओम आपकी सांसों में झुलसता है और जीवन का निर्वाह करता है। दो ऊँ का जप करने के तुरंत बाद कुछ मौन रखना चाहिए। यह प्रक्रिया आपको आनंद की स्थिति में लाने में मदद करती है जहां आप सर्वोच्च अनुभव कर सकते हैं।

4. क्रिया को सांस को शुद्ध करने के रूप में भी जाना जाता है। क्रिया श्वास का उन्नत रूप है। यहाँ धीमी, मध्यम और तेज़ चक्रों में सांस लेनी होती है। साँस चक्रीय और लयबद्ध होनी चाहिए। इस प्रक्रिया में, किसी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सांस ली गई सांसों की अवधि सांसों से दोगुनी होनी चाहिए। यह कदम आपकी दृष्टि को साफ करने और आपके आत्म-शुद्धिकरण में मदद करता है।

Benefits Of Sudarshan Kriya

शारीरिक, मानसिक, मनोवैज्ञानिक और आध्यात्मिक कल्याण जैसे विभिन्न लाभों को सुदर्शन क्रिया से प्राप्त किया जा सकता है। व्यक्ति अपने पारस्परिक संबंधों को भी सुधार सकता है और सुदर्शन क्रिया के माध्यम से आनंद, सद्भाव और प्रेम के बंधन का निर्माण कर सकता है।

भगवान वास्तव में रचनात्मक है बस मुझे देखो

क्रिया समग्र स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार करने में मदद करती है। यह ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है। कोलेस्ट्रॉल लेवल कम हो जाता है। एक बेहतर तरीके से चुनौतीपूर्ण स्थितियों से निपटने के लिए सीखता है। यह नींद की गुणवत्ता में सुधार करता है। मस्तिष्क क्रिया को इस क्रिया से बढ़ाया जाता है जिससे आपकी रचनात्मकता बढ़ती है। यह चिंता को कम करता है और तनाव को कम करता है।

सुदर्शन क्रिया पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर और अवसाद के लिए अद्भुत काम करती है। व्यक्ति आंतरिक शांति प्राप्त कर सकता है और इस क्रिया द्वारा पूरी तरह से आराम कर सकता है। यह आपको अपने और अपने परिवेश से अवगत कराएगा। अंतिम लेकिन कम से कम नहीं, यह आपके आत्मविश्वास के निर्माण में आपकी मदद करता है जो आपको जीवन में अधिक धैर्यवान होना सिखाता है।

सुदर्शन क्रिया के दुष्प्रभावों का पता लगाने के लिए अतीत में कई अध्ययन और शोध किए गए हैं। अंतर्राष्ट्रीय शैक्षणिक संगठनों के अध्ययनों ने साबित किया है कि सुदर्शन क्रिया का कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं है। वास्तव में, उन्होंने विभिन्न स्वरूपों में शिक्षण की शैली और इसकी प्रभावशीलता का दस्तावेजीकरण किया है।

शुरू करने के लिए कुछ सुझाव

सुदर्शन क्रिया किसी प्रमाणित योग शिक्षक या गुरु से ही सीखनी चाहिए। विशेषज्ञ योग शिक्षक हैं जो आपको अच्छी तरह से मार्गदर्शन कर सकते हैं। पेशेवर से सीखे जाने पर यह आपके लिए चमत्कार कर सकता है। यह अप्रभावी हो सकता है और शायद हानिकारक भी अगर अपने दम पर कोशिश की जाए।

गर्मियों में चमकती त्वचा के लिए फेस पैक

सुदर्शन क्रिया करने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से योग्य होने के लिए अपने चिकित्सक या योग प्रशिक्षक से परामर्श करें। गर्भवती महिलाओं को इसे अपनी दैनिक गतिविधि का हिस्सा बनाना चाहिए। शराब और नशीली दवाओं के दुरुपयोग के शिकार भी योग के इस रूप का अभ्यास करके अच्छे परिणाम प्राप्त करते हैं।

इसलिए यदि आप तनाव से निपटने के लिए एक समाधान की तलाश में हैं और बेहतर महसूस करना चाहते हैं, बेहतर देखना चाहते हैं, बेहतर जीना चाहते हैं तो इस सबका समाधान सुदर्शन क्रिया के साथ अच्छी तरह से सांस ले रहा है, जो भारत के प्राचीन योगिक विज्ञान की एक विधि है।

लोकप्रिय पोस्ट