ग्रीन टी पीने का सही समय और सही तरीका क्या है?

याद मत करो

घर स्वास्थ्य कल्याण कल्याण ओइ-लूना दीवान द्वारा लूना दीवान 4 अगस्त 2016 को

देर से हरी चाय सबसे लोकप्रिय पेय में से एक बन रही है। यह मुख्य रूप से है क्योंकि लोग इसके साथ आने वाले असंख्य स्वास्थ्य लाभों के बारे में जागरूक हो रहे हैं।

वजन कम करने के इच्छुक लोग अपने पेट की चर्बी को कम करते हैं, त्वचा की बेहतर बनावट रखते हैं, चयापचय को बढ़ावा देते हैं और युवा बने रहते हैं, ऊर्जावान और स्वस्थ रहते हैं और अब ग्रीन टी का सहारा ले रहे हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम कप के बाद हरी चाय के कप पीने पर जा सकते हैं। यह एक गलती है जो हममें से अधिकांश लोग करते हैं।

यह भी पढ़ें: महिलाओं के लिए ग्रीन टी पीने का कारण



हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि गलत समय पर ग्रीन टी पीने से कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं।

ग्रीन टी में कैफीन और टैनिन होते हैं जो गैस्ट्रिक जूस को पतला कर सकते हैं और पेट को प्रभावित कर सकते हैं। इससे मतली, गैस्ट्रिक दर्द और पेट की अम्लता हो सकती है।

यह भी पढ़ें: क्या ग्रीन टी वजन कम करने में मदद करती है

यह केवल तभी होता है जब सही समय पर और सही मात्रा में ग्रीन टी का सेवन किया जाता है, जिससे हम इसके अधिकतम स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

दुनिया भर में कई अध्ययन और शोध भी किए गए हैं जो साबित करते हैं कि ग्रीन टी के कई स्वास्थ्य लाभ हैं लेकिन इसके अधिक सेवन से आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

तो अगर आप ग्रीन टी पीने के सही तरीके की तलाश कर रहे हैं, तो यह है। ग्रीन टी पीने के इन 8 सबसे अच्छे तरीकों पर एक नज़र डालें।

सरणी

1. खाली पेट पर ग्रीन टी न पियें:

हममें से ज्यादातर लोगों का मानना ​​है कि खाली पेट ग्रीन टी पीने से हमारे सिस्टम को साफ करने में मदद मिलती है। इससे बचना चाहिए। ग्रीन टी में कैफीन होता है जो गैस्ट्रिक जूस को पतला कर सकता है और प्लीहा और पेट को प्रभावित कर सकता है।

सरणी

2. ग्रीन टी पीने का सही समय:

सर्वोत्तम परिणामों के लिए आपके भोजन से लगभग आधे घंटे पहले या भोजन के लगभग 1-2 घंटे बाद ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए।

सरणी

3. ग्रीन टी में दूध और चीनी न डालें:

ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट और थीनिन होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं। लेकिन जब दूध में प्रोटीन और चीनी में कैलोरी चाय में फ्लेवोनोल्स के साथ मिल जाती है, तो यह एक नकारात्मक प्रतिक्रिया की ओर जाता है और शरीर स्वास्थ्य लाभ प्राप्त नहीं कर पाएगा।

सरणी

4. शहद के साथ ग्रीन टी पियें:

ग्रीन टी में मौजूद कैफीन और शहद में मौजूद विटामिन न्यूरॉन्स को फिर से जीवंत करने और शरीर से वसा को जलाने में मदद करते हैं। शहद कैलोरी को कम करने में मदद करता है और हरी चाय चयापचय को बढ़ावा देने में मदद करती है।

सरणी

5. भोजन के तुरंत बाद ग्रीन टी पीना:

भोजन के तुरंत बाद ग्रीन टी का सेवन नहीं करना चाहिए। ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा पाचन को प्रभावित करती है और पोषण को शरीर द्वारा अवशोषित होने से रोकती है।

सरणी

6. 2-3 कप एक दिन:

अधिकतम स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए दिन में लगभग 2-3 कप ग्रीन टी लेना आदर्श है। ग्रीन टी एंटीऑक्सिडेंट और फ्लेवोनॉयड्स से भरपूर होती है। इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे शरीर में विषाक्तता बढ़ती है और यह लीवर को प्रभावित कर सकता है।

सरणी

7. भोजन के साथ ग्रीन टी न पिएं:

अपने भोजन के साथ ग्रीन टी पीना किसी के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। यह शरीर में विटामिन बी 1 के अवशोषण को रोकता है और इससे कुछ स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

सरणी

8. ग्रीन टी को देर रात पीने से बचें:

ग्रीन टी में मौजूद कैफीन तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित कर सकता है और आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है। इसलिए ग्रीन टी का सेवन देर रात तक नहीं करना चाहिए।

लोकप्रिय पोस्ट